TRP क्या है? TRP Full Form क्या होती है जानिए

हाल ही में हमने सुना था कि डीडी नेशनल पर आने वाले शो रामायण की TRP इतनी ज्यादा बढ़ गई थी कि इसने अब तक के सारे TRP रिकॉर्ड तोड़ दिए। इसी चेनल पर आने वाला धारावाहिक श्री कृष्णा दूसरे स्थान पर रहा इसके अलावा महाभारत की TRP भी अच्छी खासी है। हमने कई बार tv , internet पर भी देखा है कि किसी शो की TRP ज्यादा होती है किसी की कम होती है। आज के इस आर्टिक्ल पढ़ने के बाद आपको TRP की Full Form के बारे में भी पता चल जाएगा।

आखिर ये TRP है क्या ? TRP Full Form क्या होती है

क्यो किसी प्रोग्राम की TRP ज्यादा होता है तो किसी की कम? ये सुना हुआ तो सबने है लेकिन बहुतो को इसके बारे में ज्यादा कुछ पता नही होता है। चलिए आज हम TRP के बारे में सारी जानकारी जानेंगे।

TRP एक पूरा शब्द नही है ये तो अंग्रेजी के शब्द televison rating point (टेलीविजन रेटिंग पॉइन्ट)
का संक्षिप्त रूप है ।

सरल भाषा मे समझा जाये तो इसका साफ साफ मतलब है कि किसी tv प्रोग्राम को कितना ज्यादा देखा जा रहा है और वो कितना पॉपुलर है?

ये सारी जानकारी हमे TRP की मदद से मिल जाती है हालांकि हमसे ज्यादा ये जानकारी बड़े बड़े ब्रांड्स के मालिकों के लिए ज्यादा उपयोगी होती है ऐसा क्यों ये हम आगे जानेंगे

किसी प्रोग्राम की TRP ज्यादा है मतलब उसे ज्यादा लोगो द्वारा देखा जा रहा है और पसन्द किया जा रहा है किसी की कम है मतलब लोग उस प्रोग्राम को देखने मे इतनी दिलचस्पी नही दिख रहे है

लोग किस समय कौनसा शो ज्यादा देख रहे है सारी जानकारी TRP की मदद से हासिल हो जाती है।
TRP से विज्ञापन देने वाले प्रोडक्ट्स के मालिक भी उसी शो में अपने प्रोडक्ट का विज्ञापन चलवाना ज्यादा पसंद करते है

Full Form of TRP Hindi

इसके माध्यम से उनको आसानी हो जाती है किस शो के दौरान और किस चैनल पर उनका विज्ञापन दिखाया जाए इसके लिए वो अपने विज्ञापन को चलवाने के लिए ज्यादा पैसे देने को भी तैयार हो जाते है।

यह भी पढ़ें

यूट्यूब से पैसे कैसे कमाए | Youtube se Paise Kaise Kamaye.

इंटरनेट पर ब्लॉगिंग से पैसे कमाने के 5 तरीके

ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं। Online Paise Kaise Kamaye

TRP की जानकारी मिलती कैसे है?

TRP का मतलब तो हमने जान लिया लेकिन ये काम कैसे करता है? आखिर पता कैसे चलता है कि किस शो को लोग ज्यादा देखना पसंद कर रहे है?

INTAM नामक एक भारतीय एजेंसी इसके बारे में पता करती है। दरअसल हमारे सेटटॉप बॉक्स में किसी प्रकार का टूल लगा होता है जोकि cable के माध्यम से कनेक्ट होकर इसकी जानकारी एजेंसी को भेजता है कि कोनसा चैनल और शो उपभोक्ता द्वारा ज्यादा देखा जा रहा है।

और किसी एरिया के लोकल केबल ऑपरेटर के पास एक मीटर होता है जोकि सारे एरिया के सेट टॉप बॉक्स से कनेक्ट हो जाता है । इसीलिए सभी लोगो को सेट टॉप बॉक्स लगाने के बारे में ज्यादा कहा जाता है।

ऑपरेटर द्वारा सारी जानकारी TRP मोनिटर करने वाले टीम को भेज दी जाती है इसके बाद वो टीम एनालेसिस करती है और किसी शो की TRP पता करती है

ब्लॉगर और यूट्यूब पर वीडियो डालने वाले लोग इस बात को अच्छे से समझेंगे उनके चैनल और ब्लॉग पर भी सारी जानकारी आती है कि कितनी बार देखा गया, किस देश से देखा गया, कितनी महिलाओं द्वारा देखा गया, कितने पुरुषों द्वारा देखा गया।

किस उम्र के लोगो द्वारा देखा गया इसी प्रकार ही मोनिटरिंग वाली टीम के पास भी वेसे ही डेटा भेजा जाता है ताकि वो विज्ञापन वाले ब्रांड्स को ये डेटा भेज सके जिससे बड़े ब्रांड्स को अपने विज्ञापन दिखाने में आसानी हो जाती है कि उन्हें उस शो के दौरान किस प्रकार के विज्ञापन दिखाने है अगर वो शो बच्चो द्वारा ज्यादा देखा जाए तो बच्चो के प्रोडक्ट्स वाले ब्रांड्स अपना विज्ञापन दिखा सके ।

आजकल तो ऑनलाइन सर्वे द्वारा भी पता लगा लिया जाता है जिसमे लोगो से ऑनलाइन सर्वे में पूछा जाता है
इसमें कई शो के नाम होते है जिसमे आपको अपने पसंदीदा शो पर टिक करना होता है और जानकारी आगे चली जाती है।

TRP का टीवी चैनलों पर प्रभाव

क्या आपको पता है टीवी चैनलों की कमाई कैसे होती है? इसमें भी TRP का बहुत बड़ा रोल होता है चेनलो की कमाई 80- 90% कमाई विज्ञापनों से होती है और विज्ञापन का सीधा संबंध TRP से ही होता है किसी शो की TRP बढ़ने या घटने का प्रभाव उस शो की कमाई पर पड़ता है ।

अगर किसी शो की TRP कम हो तो उसको विज्ञापन के पैसे भी उतने नही मिलते है और बड़े ब्रांड के विज्ञापन नही मिलते है वहीं अगर किसी शो की TRP शानदार हो तो उसको अच्छे ब्रांड के विज्ञापन के साथ साथ पैसे भी अच्छे मिलते है।

TRP सिर्फ चेनल ही नही प्रोग्राम पर भी ज्यादा निर्भर करती है जितना अच्छा और मनोरंजक शो होगा TRP उतनी ही ज्यादा मिलेगी,

देखा जाए तो चेनल पर भी ज्यादा निर्भर नही करती क्योंकि जैसा की हम सब ने देखा डी डी नेशनल को ज्यादा नही देखा जाता लेकिन जैसे ही उस पर वापस रामायण को शुरू किया TRP इतनी बढ़ गई कि सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और आपने गौर किया होगा तो विज्ञापन की मात्रा भी बढ़ गई और अमूल जैसे ब्रांड ने यहाँ अपने विज्ञापन दिखाए।

इससे नतीजा ये हुआ कि डी डी नेशनल की कमाई बहुत बढ़ गई वेसे आपको ये बात दें कि ये एक सरकारी चेनल है। इससे पहले द कपिल शर्मा शो,बिग बॉस,खतरों के खिलाड़ी,नागिन जैसे शो की TRP भी ज्यादा थी

न्यूज चैनल पर भी देखा जाए तो सबसे ज्यादा TRP के लिए होड़ लगी रहती है यहाँ पर बहुत ज्यादा कॉम्पिटिशन देखने को मिलता है यहाँ किसी भी हद तक कि डिबेट दिखा दी जाती है

क्या आप TRP को यूं ही छोटी मोटी चीज समझ रहे थे?

निष्कर्ष –

उम्मीद है आपको TRP के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी TRP का मुख्य उपयोग विज्ञापन कम्पनियो द्वारा ही किया जाता है।

TRP को एनालेसिस करने वाली मोनिटरिंग टीम भी एनालेसिस करने के बाद पूरा TRP डेटा विज्ञापन कम्पनियो को ही भेजती है जिससे कंपनियां ज्यादा देखे जाने वाले शो के दौरान अपना विज्ञापन दिखा सके।

2015 से अबतक रामायण ही एकमात्र ऐसा शो है जिसे ज्यादा TRP मिली हो। LOKDOWN की वजह से जब लोग घरों में बोर हो रहे थे तब डी डी नेशनल ने इसे वापस प्रसारित करना शुरू किया और इतने लोगो द्वारा इसे देखा गया कि इस शो ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए अबतक इतनी TRP किसी शो को नही मिली जितनी रामायण को मिली है सिर्फ भारत मे ही नही बल्कि विदेशो में भी रामायण लोगो द्वारा बहुत देखा गया।

टीआरपी के बारे में यूट्यूब विडियो देखें

FAQs About TRP in Hindi

टीआरपी का फुल फॉर्म क्या है

टीआरपी की फुल फॉर्म टेलीविज़न रेटिंग पॉइंट्स है। TRP Full Form : Television Rating Point Hai

TRP रेटिंग कौन जारी करता है?

हमारे देश भारत में किसी भी चैनल के शो की टीआरपी रेटिंग जारी करने का काम ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) के द्वारा किया जाता है। यह संस्था पता करके बताती है की कौनसे चैनल को किस समय सबसे ज्यादा देखा जाता है।

टीआरपी का मतलब क्या होता है

टीआरपी यानी की टेलीविजन रेटिंग पॉइंट (Television Rating Point) एक ऐसा उपकरण है जिसके द्वारा ये पता लगाया जाता है किस टीवी चैनल को सबसे ज्यादा देखा जा रहा है। यानि टीआरपी का मतलब है जिस चैनल की टीआरपी ज्यादा है उसे उतने ज्यादा लोगो के द्वारा देखा जाता है और पसंद किया जाता है।

Default image
पवन सिंह शेखावत
नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम पवन सिंह है, मैंने कंप्यूटर साइन्स के अंदर अपनी स्नातक की डिग्री पूरी की है। मुझे इंटरनेट, टेक्नॉलजी, कंप्यूटर के बारे में जानने की काफी ज्यादा दिलचस्पी है, जिस कारण मैंने इस ब्लॉग को बनाया है जिसमें आपको इंटरनेट, टेक्नॉलजी, कंप्यूटर, मोबाइल, टिप्स ट्रिक्स तथा ऑनलाइन पैसे कमाने के तरीकों के बारे में बताने वाला हूँ। अगर आपको मेरे आर्टिक्ल पसंद आते है तो मुझे Social Media पर Follow जरूर कर लें।
Articles: 110

Leave a Reply